बुद्धिजीवी युवा वर्ग बनाम जनाधार विहीन- जन-नायक, ..राष्ट्रवादी, ईमानदार और जिंदादिल मीडिया बनाम मुद्दा विहीन- राजनीति,

Posted: May 12, 2011 in Children and Child Rights, Education, Geopolitics, Politics, Uncategorized, Youths and Nation

हम बात कर रहे हैं सतलुज यमुना लिंक नहर प्रोजेक्ट की. सतलुज यमुना लिंक नहर प्रोजेक्ट पंजाब  और हरियाणा  की आपसी लड़ाई में इस पानी का इस्तेमाल न पंजाब में हो प् रहा है और न ही हरियाणा में. लाखों क्यूसेक लीटर पानी रोज पाकिस्तान जा रहा है.

अभी के हालत ये हैं की 214 किमी की प्रस्तावित नहर सिर्फ 500 मीटर  बाकी रह गयी है और केंद्र, पंजाब और हरियाणा में पिछले 25 सालों में कई सरकारों के बदल जाने के बावजूद भी  सतलुज यमुना लिंक नहर प्रोजेक्ट पूरा नहीं हो पाया है और एक जनहित याचिका के रूप में न्यायालय में लंबित है. लगता है सारे नेता और बुद्धिजीवी इस महत्वपूर्ण मुद्दे को जैसे भूल ही गए हैं. जबकि यह समय का तकाजा है कि सतलुज यमुना लिंक नहर शीघ्रातिशीघ्र पूरी करके समुचित जल प्रबंधन सुनिश्चित किया जाये. न जाने कितनी बार कहा और लिखा जा चूका है..कि तीसरा विश्वयुद्ध पानी के लिए पानी के मुद्दे पर  होगा. एक हम हिन्दुस्तानी लोग हैं जो आपसी झगडे में इतना पानी मुफ्त में दुश्मन राष्ट्र पाकिस्तान को दिए जा रहे हैं. इतना जो कि दिल्ली जैसे दुनिया के सबसे बड़े महानगरों में से एक की सम्पूर्ण जलापूर्ति में काम आ सकता है.  उधर पाकिस्तान है जो कि सिन्धु जल-संधि का रोज उल्लंघन करता है और हम उसे इतना पानी उपहार में दिए जा रहे हैं. बात ये नहीं है कि छिड़ी चोंच भर ले गयी नदी न धारियों धीर.. बात है जनहित से जुड़े मुद्दों की.. जिसे आज का मीडिया नहीं छूता  है. नेता जी ने या कहा या सात मरे सत्रह घायल जैसी नामी ख़बरों से मीडिया को फुर्सत ही नहीं है. जबकि हर वो बड़ी बात या खबर जो जनता को प्रभावित करती है वही वास्तविक खबर होती है. वही वास्तविक मुद्दों की मुख्यधारा बनती है. लेकिन समाचार की यह परिभाषा किसी किताब में नहीं मिलेगी. मीडिया को तो राखी के स्वयंवर और राखी सावंत की अदालत से फुर्सत मिले तो वह इन ज्वलंत मुद्दों के लिए समय निकाले. हरियाणा, पंजाब और केंद्र की सरकारों  को अपनी सत्ता बचाए रखने की जुगत पूरी होती दिखे तो आगे की देखे या सोचे. ऐसे में जनहित के मुद्दों को कौन उठाएगा और कौन पैरवी करेगा. फिर भी उम्मीद है की आज का समाज  और नए युग का राष्ट्रवादी समझदार और जिंदादिल मीडिया ऐसे मुद्दे को समझेगा और आगे आ कर जनहित के मुद्दों को उठाएगा, अपने कर्त्तव्य का पालन करेगा..

गुमनाम संपादक (पत्रकार ) श्री इन्द्र भूषण रस्तोगी से साभार..

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s