ठलुआई ही विज्ञान है*

Posted: November 9, 2011 in Children and Child Rights, Education, Geopolitics, Politics, Uncategorized, Youths and Nation

आइये आपको इस ठलुआ शब्द से परिचय कराते हैँ

ठलुआ एक महान कार्य क्षेत्र है

जहाँ लोग अपने सारे जरुरी कामोँ को छोड़कर इस क्षेत्र का रुख करते हैँ

इस क्षेत्र मे मनुष्य के अन्दर से छल कपट की भावना समाप्त हो जाती है

ठलुआई करते हुये लोगो के अन्दर के सारे गम खो जाते है वो किसी दूसरे संसार मे खो जाते हैँ ठलुआ हमेशा खुश रहते है वो हर पल मुस्कुराकर जीते है

उन्हे न खुद की फिक्र न कल की चिन्ता बस इस लम्हे को जीना उनकी फितरत है

*ठलुआपन मेँ भी बहुत बड़ा ज्ञान है

ठलुओँ ने ही किया आविष्कार है

एक ठलुआ के कारण ही रात को मिलता प्रकाश है

ठलुये ने ही उड़ाया आकाश मेँ जहाज है

ठलुओँ से ही विकसित विज्ञान है

ठलुआपन ही विकास है

ठलुआई ही विज्ञान है*

“Thalua means it stands for a person who is always free have opinion on any subject under the sky. Who always justifies his Nikammapan and is always serious in his acts of stupidity.”

रसखान जी ने भी ठलुओँ की महत्ता पर प्रकाश डालते हुये लिखा है,

‘मानुष होँ तो वही रसखान

जो बैठे भोर ही नन्द के द्वारे’

आज हम एक सुई भी अपनी सोच से नहीँ बना पा रहे

नकल करना हमारी आदत बन गई है

हम सही गलत इंसान मेँ फर्क करना भी भूल गये

हम आंख बंदकर अनुसरण करने के आदी हो गये है

तो आईये ठलुआई करते हुये कुछ नया सोचे

शोध करे…

सभी सम्मानीय सदस्यगण मित्रदान करना न भूलेँ

ठलुआ क्लब फेसबुक से साभार

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s