Posted: May 29, 2012 in Uncategorized

punarnav bharat

राकेश मिश्र

 जिस जीवन्तता के साथ इस गंभीर सामाजिक उद्देश्य के लिए संघर्ष किया है उसके लिए श्रद्धेय संत समाज,  आन्दोलन कारी भद्रजनों के गंगाजी के प्रति  प्राण पण समर्पण भाव को नमन है.. यद्यपि गंगाजी  की अविरलता के लिए सरकार  ने कोई ठोस वचन नहीं दिया है लेकिन  स्वामीजी की तपस्या के प्रभाव से हम सरकार का ध्यान आकृष्ट करने में सफल रहे हैं. निस्संदेह यह एक लम्बी लड़ाई की शुरुआत है जिसके पहले दौर में हमे आंशिक  सफलता भी मिली हुई लगती है लेकिन सरकार के छल, घोंघे जैसी गति वाली समितियों और विदेशी  पूंजी के प्रताप से गतिमान आयोगों के प्रकोप से गंगा  जी को बचाना भी हमारा ही दायित्व है. यक़ीनन सरकार के पास बहुत से संसाधन और उपाय हो सकते हैं जिनसे  इस आन्दोलन की धार को कुंद करने का प्रयास करे. इससे बचने के लिए    नागरिक समाज के साथ साथ संत समाज को भी स्थायी…

View original post 692 more words

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s