बलात्कार बनाम बाज़ार का बवंडर

Posted: December 27, 2012 in Children and Child Rights, Education, Youths and Nation

पहले आप इन लाइनों को ठीक से पढ़ लें फिर आगे की चर्चा की जाए…….

MAIN HOON BALATKAARI !!!!
Raat ko nikali naari

hui gadi pe savaari

par voh raat usko pad gayi bhari.

Peeche se aaya main

utari uski saari

kachchi phadi

lungi gaadi

aur g***d maari.

Kyunki main……….

Kyunki main……….

Kyunki main hoon ek balatkari

Kyunki main……….

Kyunki main……….

Kyunki main hoon balatkari..

एक अरसे से हनी सिंह के गाली गलौज और कामुकता से भरे फूहड़ गाने और विडियो  युवाओं के मोबाइलों का खजाना बने हुए हैं। वे युवा और युवतियां इन प्रेरकों से उत्पन्न भावावेशों को लोकमर्यादा के आगे जाकर रोज गार्डन में व्यक्त करते दिख जाते हैं। लेकिन उन सुरक्षा कर्मियों और सफाई वालों के नज़रिए से जब आप देखेंगे तो ऐसे कार्यकलापों से क्या मनोभाव बनते बिगड़ते हैं जरा उसका भी ख्याल करिए तो बहुत कुछ साफ़ हो जायेगा। जब तक समाज इस प्रकार की अभिव्यक्तियों को स्वीकार करने को तैयार न हो तब तक ध्वंसात्मक परिणाम ही नज़र आते रहेंगे। कानून या कानून के रखवालों पर नज़र डालिए तो और भी बहुत कुछ साफ़ हो जाता है। कुछ समय पूर्व एक वरिष्ठ महाराष्ट्र के पुलिस अधिकारी के मातहतों की करतूत कुछ यूँ रही कि पुलिस ट्रेनिंग सेंटर में 11 लड़कियाँ गर्भवती हो गईं ।  शायद उनको रोजगार की कीमत पर लड़ना संभव नहीं लगा।

अब इमानदारी से बताएं कि बलात्कार का दोषी  बाज़ार को या बाजारवादी व्यवस्था को क्यों न कहा जाए?
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s