इलेक्‍ट्रानिक मीडिया मॉनिटरिंग सेंटर

Posted: April 23, 2013 in Education, Geopolitics, Politics, Youths and Nation

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने इलेक्ट्रानिक मीडिया मॉनिटरिंग सेंटर- EMMC की स्थापना इस उद्देश्य को लेकर की है, जिससे भारतीय क्षेत्र में प्रसारित होने वाले विभिन्न टी.वी. चैनलों द्वारा प्रसारित विषयवस्तु एवं किसी भी उल्लंघन पर प्रभावी ढंग से निगरानी रखी जा सके। निर्धारित निर्देशों में शामिल है:-

  • कार्यक्रम कोड।
  • विज्ञापन कोड।
  • केबल टेलीविजन नेटवर्क विनियमन एक्ट के विभिन्न प्रावधान।
  • सेटेलाइट टी. वी. चैनलों से जुडे़ अन्य कानून।

इलेक्ट्रानिक मीडिया मॉनिटरिंग सेंटर-EMMC, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के अधीनस्त कार्यालय है। इसकी स्थापना 9 जून-2008 में हुई। केन्द्र ने इसे भारत में अपलिंकिंग और डाउनलिंकिंग द्वारा प्रसारित चैनलों की विषयवस्तु की निगरानी का कार्य सौंपा है, ताकि भारत में चैनलों द्वारा प्रसारित कार्यक्रम या विज्ञापन नियमों के उल्लंघन की जांच हो सके, वह निर्देश जो शामिल हैं- (क) केवल अधिनियम (विनियमन) एक्ट 1995 तथा इसके अन्तर्गत बने नियम (ख) निजी एफ. एम. रेडियो चैनल (ग) इसके अतिरिक्त समय-समय पर सरकार द्वारा आवंटित कार्य, जो विषयवस्तु की निगरानी से संबंधित प्रसारण क्षेत्र से ही जुडे हों। वर्तमान में EMMC के पास तीन सौ टी.वी. चैनलों के रिकार्ड है, जिसमें से 191 चैनलों की निगरानी 24X7 के आधार पर होती है।

इतिहास / पृष्ठभूमि

सेंट्रल मॉनिटरिंग सेंटर-CMCको दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान शिमला में स्थापित किया गया था, जिससे युद्ध विरोधी दुष्प्रचार की निगरानी की जा सके। इसके तहत विभिन्न अन्तर्राष्ट्रीय रेडियो कार्यक्रमों की निगरानी की गई। स्थान का चयन ऊंचाई के मद्देनजर किया गया था ताकि स्पष्ट रेडियो तरंग संकेतो को प्राप्त किया जा सके। बाद में तकनीकी प्रगति और इसके विस्तार को देखते हुए 1981 में इसे आया नगर, नई दिल्ली में स्थानान्तरित कर दिया गया। साथ ही इसका नाम बदलकर ‘‘सेन्ट्रल मॉनिटरिंग सर्विस‘‘ रखा गया। उस समय यह महानिदेशक, आल इंडिया रेडियों के नियंत्रण में था। परन्तु 2003 में इसे सीधे तौर पर सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के नियंत्रण में कर दिया गया।

शुरूआती तौर पर CMS खुले सूचना स्रोतों के एकत्रण, समाचारों एवं समाचार आधारित कार्यक्रमों पर निगरानी और दूसरे देशों द्वारा चलाये जाने वाले भारत विरोधी प्रचार सहित, तमाम विदेशी रेडियों स्टेशनों द्वारा प्रसारित समाचारों एवं समाचार आधारित कार्यक्रमों और दिनों-दिन के मुद्दों पर निगरानी में संलग्न रही। बाद में, भारत में जब टेलीविजन मीडिया का तेजी से विस्तार हुआ, तब चैनलों पर प्रसारित समाचार और समाचार आधारित कार्यक्रमों की निगरानी और भी अनिवार्य हो गई। इसके अतिरिक्त CMS चैनलों पर प्रसारित कार्यक्रमों और विज्ञापन की विषयवस्तु के नियमों के उल्लंघन पर भी निगरानी रख रहा था, जिसके लिए केबल टेलीविजन नेटवर्क (विनियमन) एक्ट 1995 द्वारा निर्देश निर्धारित किए गए हैं।

मंत्रिमंडल सचिवालय के आदेश संख्या 1/109/18/2003, दिनांक 15 अप्रैल, 2004 के अनुसार सीएमएस का हस्तांतरण राष्ट्रीय तकनीकी अनुसंधान संगठन-NTRO के तौर पर हो गया। CMS के खुले सूचना स्रोतों के एकत्रण कार्य का विलय NTRO में कर दिया गया। NTRO को स्थापित करने का मुख्य उद्देश्य, न्यायसंगत सूचनाआंे के संग्रहण की गतिविधियों को बढ़ावा देना था, परिणामस्वरूप CMS की गतिविधियां (विषयवस्तु की निगरानी को छोड़कर ) NTRO को हस्तांतरित कर दी गई और यह 01/04/2005 से प्रभावी रूप से काम करने लगा।

अब मंत्रालय के समक्ष विषयवस्तु की निगरानी के लिए CMS के पुनर्रूत्थान का रास्ता था, अतः 11वीं पंचवर्षीय योजना में इसे इलेक्ट्रानिक मीडिया मॉनिटरिंग सेंटर- EMMC के नाम से पुनस्र्थापित किया गया।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s