मुजफ्फरनगर का माहौल बिगडा, दो पत्रकारों समेत छह की हत्या

Posted: September 7, 2013 in Education, Geopolitics, Politics, Uncategorized, Youths and Nation

महापंचायत की भीड ने एक को पीट-पीटकर मार डाला, महापंचायत में उमडा लाखों का भारी सैलाब, पंचायत में शामिल होने जा रहे लोगों पर पथराव

मुजफ्फरनगर। कवाल प्रकरण को लेकर आज नंगला मंदौड में हुई महापंचायत में शामिल होने जा रही बस में सवार लोगों ने दूसरे सम्प्रदाय के एक व्यक्ति को पीट-पीटकर मार डाला, जिसके बाद जनपद के हालात बिगड रहे हैं। दोनों समुदायों के लोगों मंे भारी तनाव है। कवाल प्रकरण में मारे गए दोनों युवकों के हत्यारों की गिरफ्तारी तथा इस मामले में निर्दोष लोगो के खिलाफ की जा रही कार्रवाई के विरोध में आज नंगला मंदौड में आयोजित महापंचायत में एक बार फिर से लाखों लोगों का भारी जनसैलाब उमड पडा। पुलिस ने 31 तारीख को हुई महापंचायत में अहम भूमिका निभाने वाले विरेन्द्र सिंह प्रमुख को गिरफ्तार किया तो बडी संख्या में मुचलके भी पाबंद किए, लेकिन जनसैलाब पर इसका कोई विशेष असर नहीं पडा।

मुजफ्फरनगर के कवाल प्रकरण को लेकर नंगला मंदौड़ के इंटर कालेज में हो रही महापंचायत में हिस्सा लेने जा रही लोगों की भीड़ ने बस पर पथराव से नाराज होकर गैर संप्रदाय के एक युवक की सिखेड़ा थाने के पास पीट-पीट कर हत्या कर दी। बस पर पथराव में आधा दर्जन लोगों के घायल होने के बाद से इसमें बैठे लोग नाराज हो गए थे। महापंचायत में आ रहे लोगों की बस पर शाहपुर थाना क्षेत्र के बसी गाव के गैर संप्रदाय के युवकों ने पथराव कर दिया था, जिसमें आधा दर्जन लोग घायल हो गए थे। इस पर महापंचायत की आधी भीड़ बसी गाव की तरफ जाने लगी। बताया जा रहा है कि भीड ने रास्ते में पुलिस प्रशासन के लिये वीडियोग्राफी कर रहे दूसरे सम्प्रदाय के एक व्यक्ति को पीट-पीटकर मार डाला। मृतक की पहचान इसरार निवासी काधला, जिला शामली के रूप में की गई है। इस दौरान पुलिस और प्रशासन बेबस बना रहा। इधर, महापंचायत में सचिन-गौरव हत्याकाड के आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई और जेल गए हिंदू समाज के लोगों की रिहाई की माग की गई और निर्णय लिया गया कि बहू-बेटियों के साथ बदसलूकी करने वालों से खुद ही सख्ती से निपटा जाएगा। छेड़छाड़ जैसे मामलों में पुलिस की मदद नहीं ली जाएगी। एक स्वर में इस बात को स्वीकार किया गया कि खाप का निर्णय सर्वमान्य होगा।

इस दौरान सरधना के विधायक संगीत सोम, थानाभवन के विधायक सुरेश राणा, विधानमंडल दल के नेता हुकुम सिंह और बिजनौर के विधायक कुंवर भारतेंद्र सिंह व प्रदेशाध्यक्ष अशोक कटारिया आदि भाजपाइयों के साथ भाकियू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत व प्रवक्ता राकेश टिकैत आदि मौजूद रहे। बालियान खाप के चौधरी नरेश टिकैत समेत सुरेन्द्र सिंह देशवाल खाप, वीरेंद्र सिंह लाठियान, सूरज मल बतीसा खाप,संजय कालखंडे को मंच पर बैठाया गया। भाकियू नेता चन्द्र पाल फौजी जब मंच पर पहुंचे तो लोगो ने हंगामा शुरू कर दिया और उन्हें बोलने नहीं दिया। राकेश टिकैत के संबोधन के दौरान भी शोरशराबा होता रहा। पंचायत में फैसला किया गया कि मलिकपुर के दोनों युवको गौरव और सचिन के हत्यारों को फांसी और दोनों के परिजनों को २५-२५ लाख का मुआवजा, शामली के एसपी अब्दुल हमीद को हटाने, शामली में गिरफ्तार निर्दोष वाल्मीकि समाज के युवकों को रिहा करने की मांग की गयी, साथ ही इन मांगो के पूरा होने तक वहीँ बेमियादी धरना शुरू कर दिया गया।

कवाल प्रकरण में हुई दो ममेरे भाईयों सचिन तथा गौरव की हत्या के मामले में अभी तक हत्यारों की गिरफ्तारी न होने तथा निर्दोषों के खिलाफ दर्ज कराए गए मामलों को वापस न लिये जाने पर आज एक बार फिर से जनता का गुस्सा उबल पडा। नंगला मंदौड इंटर कॉलेज के मैदान पर आयोजित महापंचायत में एक बार फिर से उमडे जनसैलाब ने साफ कर दिया कि दोनों मृतकों के हत्यारों की गिरफ्तारी न होने तक वह शांत नहीं बैठेगा। कवाल काण्ड के विरोध में नंगला में आज आयोजित सर्व जातीय पंचायत में भारी भीड़ पहुँची 11 बजे तक करीब दस हजार लोग वहां पहुँच चुके थे और जबरदस्त भीड़ के लगातार महापंचायत स्थल पर पहुंचने का सिलसिला पंचायत के चलने तक जारी रहा। गठवाला खाप के बाबा हरी किशन मलिक ने पंचायत की अध्यक्षता की जबकि संचालन की कमान जयप्रकाश शास्त्री, श्याम पाल चेयरमैन और बिट्टू सिखेडा ने संभाली। सरधना क्षेत्र से भाजपा विधायक संगीत सोम, थानाभवन क्षेत्र से भाजपा विधायक सुरेश राणा, पूर्व विधायक अशोक कंसल, पूर्व पालिका अध्यक्ष कपिलदेव अग्रवाल भी पंचायत में पहुँचे।

महापंचायत में शामिल होने वाले नेताओं की तलाश में पुलिस ने रात भर छापेमारी की, लेकिन वह पुलिस को चकमा देकर वहां पहुँच गए। हालांकि गिरफ्तारी के डर से महापंचायत में हिस्सा लेने वाले अनेक नेता रात में अपने घरों से बाहर ही रहे। पुलिस ने भी किसी अप्रिय स्थिति ने निपटने के लिए रात से ही कार्यक्रम स्थल पर डेरा जमा लिया था। खुफिया तंत्र भी समय समय पर टोह लेता रहा। पुलिस ने यहां पर वीडियोग्राफी की व्यवस्था पर रखी है जबकि कल रात से ही पुलिस ने यहां की फोटोग्राफी की।गाड़ी में तोडफ़ोड़, उत्तेजक भाषण देने और बलवा की धाराओं में वांछित जानसठ के पूर्व ब्लाक प्रमुख चौ. वीरेंद्र सिंह को शुक्रवार रात कुतुबपुर से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। एसओ सिखेड़ा चरण सिंह यादव ने बताया कि नंगला में हुई जनसभा में उत्तेजक भाषण देने, एक कार में तोडफ़ोड़ करने और बलवा कराने के आरोप में थाने पर दर्ज मुकदमे में वांछित चौ वीरेंद्र सिंह को क्राइम ब्रांच की टीम के साथ उनके आवास से गिरफ्तार किया।

कवाल प्रकरण में पुलिस ने कवाल सहित ग्यारह गांवों से दोनों पक्षों की ओर से 225 लोगों को मुचलका पाबंद की कार्रवाई की है। पुलिस ने गांव से 103, सालारपुर में 12, तिलौरा में 11, राजपुर में 24, मेहलकी में 10, भलवा में 6, खेकनी में 13, राठौर में 10, वाजिदपुर में 18, मन्फौड़ा, तिसंग व मंतौड़ी से 10 लोगों को मुचलका पाबंद किया है। जानसठ रोड पर शनिवार की सुबह से ही भारी वाहनों की आवाजाही बंद हो गयी। शाहपुर थाना क्षेत्र के गाँव बसी कलॉ में भौराकलॉ की तरफ से महापंचायत में शामिल होने आ रही बस और ट्रेक्टर ट्राली पर कुछ लोगो ने पथराव कर दिया, जिससे पांच लोग घायल घायल हो गए। घटना की सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुँच चुकी और स्थिति नियंत्रण में करने के प्रयास मंे जुट गई। पथराव में गांव गढी नौआबाद के कई लोगों के घायल होने का समाचार है।
नंगला मंदौड की कल आज की प्रस्तावित महापंचायत में भीड को जाने से रोकने के लिए पुलिस प्रशासन की ओर से 15 स्थानों पर बैरियर लगाकर 5 एडिशनल एसपी, 18 सीओ 40 इंस्पेक्टर व 100 उपनिरीक्षकों के अलावा भारी संख्या में पुलिसबल तैनात किया गया था। जिला प्रशासन ने नंगला मंदौड में होने वाली महापंचायत को रोकने की पूरी तैयारी की थी। आसपास के जनपदों गौतमबुद्धनगर, गाजियाबाद, बुलंदशहर, मेरठ, बागपत व सहारनपुर से पुलिसकर्मियों को जनपद में बुलाया गया था। महापंचायत में जाने वाली भीड को रोकने के लिए जानसठ अंडर पासबैल, एसडी पॉलीटैक्निक बहादुरपुर रोड, भिक्की बहादुरपुर राजवाहा, सिखेडा से बेहडा की ओर की जाने वाली रोड, सिखेडा गंगनहर, चितौडा झाल, नंगला कबीर, खतौली चौराहा, काटका पुल, पिमौडा गांव की पुलिया, तालडा मोड, अंतवाडा मोड व खतौली भूड पर बैरियर लगाये गये थे। उक्त सभी बैरियरों पर पर्याप्त संख्या में पुलिसकर्मियों की तैनाती की गयी थी।

इसके अलावा सीओ मोदीनगर अम्बरेश कुमार त्यागी, सीओ यातायात पीपी कर्णवाल, पीएसी बरेली के असिस्टेंट कमांडेंट बंसतलाल, सीओ स्याना श्रीमती वंदना मिश्रा, सीओ कार्यालय मौ. तारिक, सीओ आंकिक बुलंदशहर कु. रजनी, पुलिस अधीक्षक अपराध बुलंदशहर त्रिभुवन सिंह, पुलिस अधीक्षक यातायात नोएडा महेन्द्र पाल सिंह, पुलिस यातायात अपराध् गाजियाबाद रामभिलाष त्रिपाठी को प्रभारी तथा जिला बेसिक शिक्षाअधिकारी कौस्तुम्भ कुमार सिंह, जिला सहायक निबंधक सहकारी समिति एमबी जैदी, तहसीलदार योगेन्द्र सिंह, उपसंचालक आरएन धमा को प्रभारी मजिस्टेट बनाकर जानसठ रोड पर सभी की ड्यूटी लगायी गयी थी। सुरक्षा व्यवस्था के लिए 5 अपर पुलिस अधीक्षक, 18 सीओ, 40 इंस्पेक्टर, 100 उपनिरीक्षकों, 500 सिपाहियों व 9 कम्पनी अतिरिक्त पुलिसबल की तैनाती की गयी है। कोबरा मोबाईल को भी तैनात किया गया है। कार्यक्रम स्थल पर भी भारी संख्या में पुलिसकर्मी तैनात रहे। बुढाना, फुगाना व भौराकलां की ओर से आने वाले लोगों को रोकने के लिए भी पुलिस की व्यवस्था की गयी। उपरोक्त के अलावा सीओ किशनसिंह तालान को रिजर्व व्यवस्था का प्रभारी व डिप्टी कमिश्नर वाणिज्यकर डीबी सिंह को रिजर्व व्यवस्था का प्रभारी मजिस्टेट बनाया गया। महापंचायत के दौरान रिजर्व पुलिस की व्यवस्था सिखेडा थाने पर रही। गैर जनपदों से बुलाये गये पुलिसकर्मियों की शुक्रवार शाम के समय स्थानीय पुलिस लाईन से ड्यूटी लगायी गयी।

फोटो व समाचार दैनिक अमरीश समाचार बुलेटिन के फेसबुक से साभार और अपडेट्स के लिए इस लिंक पर देख सकते हैं
https://www.facebook.com/DainikAmrishSamacharBulletin

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s